अंखियां झूठ ना बोलें

0
अंखियां झूठ ना बोलें खुद ही दिल का भेद कहें फिर अपने भेद भी खोलें अंखियां झूठ ना बोलें इन पे गुज़री जैसी जैसी बात करें ये वैसी वैसी रोते...